Tuesday, December 28, 2010

दिल्ली एयरपोर्ट पर बदइंतजामी का आलम


नई दिल्ली [जासं]। कोहरे के चलते विमान यात्रियो को हो रही परेशानी को एयरपोर्ट पर बदइंतजामी और बढ़ा रही है। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय [डीजीसीए] के निर्देश के बाद भी एयरपोर्ट पर फंसे यात्रियों के लिए नाश्ते और खाने प्रबंध नहीं किया जा रहा है। जिस तादाद में फ्लाइटें लेट हो रही हैं, उसके हिसाब से टर्मिनल बिल्डिंग के भीतर यात्रियों के बैठने की भी समुचित व्यवस्था नहीं है।
डीजीसीए ने डायल एवं विमानन कंपनियों को स्पष्ट निर्देश दिए थे कि कोहरे के दौरान देर होने वाली फ्लाइटों के यात्रियों की समस्या के निदान के लिए कुछ वरिष्ठ अधिकारी को तैनात किया जाए। साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाए कि ये अधिकारी आईजीआइ एयरपोर्ट के टर्मिनलों पर 24 घंटे उपलब्ध हों और विलंबित फ्लाइटों के यात्रियों के लिए टर्मिनल बिल्डिंग में खाने एवं नाश्ते का समुचित प्रबंध भी करें। यदि एयरलाइंस यात्रियों को यह सुविधा देने में असमर्थ साबित होती है, तो डायल टर्मिनल में फंसे यात्रियों को खाने, नाश्ते सहित समुचित सुविधाएं उपलब्ध कराए और इसका खर्च डायल विमान कंपनियों से वसूले। लेकिन डीजीसीए के इस आदेश के प्रति डायल व विमानन कंपनियां गंभीर नहीं है।
एयरपोर्ट अधिकारियों का कहना है कि कोहरे के दौरान जिस संख्या में फ्लाइटें विलंबित हो रही हैं, उसके मुताबिक टर्मिनल बिल्डिंग के भीतर यात्रियों के बैठने की भी समुचित व्यवस्था नहीं है। आईजीआइ एयरपोर्ट पर नव निर्मित टर्मिनल टी-थ्री के नए सेटअप में चेक-इन, इमीग्रेशन एवं कस्टम एरिया में किसी तरह की बैठने की व्यवस्था नहीं है। सिक्यूरिटी होल्ड एरिया में यात्रियों के बैठने के लिए लाउंज एवं फूड कोर्ट में ही व्यवस्था है। लेकिन कोहरे के दौरान सभी लाउंज एयरलाइंस के बिजनेस क्लास के यात्रियों को प्राथमिकता पर दिए जाते हैं। ऐसे में इकोनॉमी क्लास में सफर करने वाले यात्रियों को खासी परेशानी उठानी पड़ रही है।
वहीं टर्मिनल बिल्डिंग के चेक इन एरिया के समीप बनाया गए वेटिंग एरिया में भी सीमित संख्या में सीटें हैं। ऐसे में कोहरे के चलते विमानों के लेट होने का सिलसिला जारी रहने से यात्रियों के लिए टर्मिनल टी-थ्री में बैठने के लिए भी कोई व्यवस्था नहीं है।

0 comments:

Post a Comment

Share

Twitter Delicious Facebook Digg Stumbleupon Favorites More